Yoga Vidya International

Community on Yoga, Meditation, Ayurveda and Spirituality

December 2019 Blog Posts (7)

उच्च पद/सम्मान और पतन/अशांति (HIGH OFFICE/APPRECIATION AND DOWNFALL/DISTURBANCE)

"उच्च पद/सम्मान मिलने पर कई लोगों के प्रायः पर निकल आते हैं और वे अहंकार की हवा में उड़ने लगते हैं। उनकी विनम्रता लुप्त हो जाती है। वे औरों को सम्मान देना और उनका अभिवादन करना भूल जाते हैं। सौम्यता का मुखौटा उनके वास्तविक स्वार्थी चेहरे से उतर…

Continue

Added by Dr SWAAMEE_APRTEMAANANDAA_JEE on December 29, 2019 at 1:00am — No Comments

लालच और जीवन में अशांति (GREED AND DISTURBANCE IN LIFE)

"अगर मौसम के हिसाब से दरख्त के फल धीरे धीरे तोड कर खाओगे तो दरख्त सालों साल आपको फल देता रहेगा। मगर लालच में आ कर दरख्त को जड से ही काट दोगे तो तुम्हें फिर से आइंदा कभी भी फल खाने को नहीं मिलेंगें। ऊन देने वाली भेड की ऊन तरीके से थोडी थोडी काटते रहोगे तो…

Continue

Added by Dr SWAAMEE_APRTEMAANANDAA_JEE on December 28, 2019 at 3:33pm — No Comments

LIFE IS JOYOUS.....!

"Life is full of joy only if you care enough to enjoy life...!"
~ J G M J V S A J

Added by Dr SWAAMEE_APRTEMAANANDAA_JEE on December 25, 2019 at 1:00am — No Comments

Top seven Yoga tips for newcomers

Those who are a newcomer to yoga practice can frequently think it is challenging to settle in. It feels as though you'll have to master a completely new language in addition to learning to regulate and manipulate your body into the diverse postures, referred to as asanas. Yoga isn't just tricky for beginners, and it is equally challenging for long-term…

Continue

Added by AYM Goa Yoga School on December 24, 2019 at 8:54am — No Comments

...Peace Thy Name Is Woman!

The dazzling  bridge between permanent supreme consciousness and our ephemeral maanav world thy beautiful name is woman...!…

Continue

Added by Dr SWAAMEE_APRTEMAANANDAA_JEE on December 19, 2019 at 2:39pm — No Comments

ऐसे मुर्शिद और राहबर का क्या फायदा जो अपने मुरीदों और चाहने वालों की मुसीबतों में रूहानी मदद ही न करे...। (IT IS USELESS TO FOLLOW A SPIRITUAL MASTER/GUIDE WHO DOESN'T HELP DISCIPLES IN NEED...!)

"इंसान को अपने वादे का पक्का होना चाहिए।

जो मुर्शिद और राहबर अपने मुरीदों और चाहने वालों की मुसीबतों में रूहानी मदद नहीं करता उसकी खासकर दो ही वज़ह होती हैं: (1) वह आपका इम्तिहान ले रहा है। (2) वह आपको टरका रहा है। वह दरअसल…

Continue

Added by Dr SWAAMEE_APRTEMAANANDAA_JEE on December 9, 2019 at 1:00am — No Comments

Blog Topics by Tags

Monthly Archives

2020

2019

2018

2017

2016

2015

2014

2013

2012

2011

2010

2009

1970

© 2020   Yoga Vidya | Contact | Privacy Policy |   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service