Yoga Vidya International

Community on Yoga, Meditation, Ayurveda and Spirituality

जीवन जी लीजिए न जाने कब शरीरं से हवा निकल जाए (ENJOY THE PRSENT MOMENT, FOR NO ONE KNOWS WHEN THE BREATH MAY STOP SUDDENLY…!)

“आगे भी जाने ना तू, पीछे भी जाने ना तू ! जो भी है बस यही इक पल है...” विख्यात गीतकार साहिर लुधियानवी का लिखा और गीत-मलिका आशा भोंसले का गाया यह मधुर गीत हमें समय ⌛ के महत्व को बहुत ही सहजता से समझाता है!


"जीवन का वर्तमान पल सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। इसका पूरा सदुपयोग कीजिए।  पीछे क्या हुआ, आगे क्या होगा- किसे भी पूरी तरह पता नहीं। जो है सो वह वर्तमान पल ही है। जीवन में जो करना है वो इसी पल कर लीजिए। न जाने कब इस शरीरं से हवा निकल जाए और यह मिट्टी के सुपुर्द हो जाए...!"


- डॉ स्वामी अप्रतिमानंदा जी


“The present moment is the most important of all. Make its full good use. What happened in the past – what shall happen in the future – any one does not know it. Do this very moment whatever you wish to do in life. No one knows when breath may stop suddenly and then this physical body shall be handed over to Earth…!”
~ Dr Swaamee Aprtemaanandaa Jee

Views: 28

Tags: Aprtemaanandaa, AshaBhonsale, Dr, Enjoy, Films, FilmsSpirituality, Jee, Life, Ludhianavi, PresentMoment, More…Sahir, Swaamee, Waqt, mortal, mortality, songs

Comment

You need to be a member of Yoga Vidya International to add comments!

Join Yoga Vidya International

© 2019   Yoga Vidya | Contact | Privacy Policy |   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service